आईएसआई की पनाह में बैठे खालिस्तानी आतंकी हैं बम कांड के सरगना, मकसद-दहशत फैलाना

आईएसआई की पनाह में बैठे खालिस्तानी आतंकी हैं बम कांड के सरगना, मकसद-दहशत फैलाना

  • आतंकी हरमीत सिंह पीएचडी और जाकिर मूसा पर शक, कश्मीरी आतंकियों से भी मदद ली जा रही
  • आंतकियों को हथियार, पैसा सब कुछ मुहैया करवा रही आईएसआई

अमृतसर/जालंधर/बठिंडा. राजासांसी के पास गांव अदलीवाल स्थित निरंकारी भवन बम कांड के पीछे पाकिस्तान में आईएसआई की शरण लिए हुए खालिस्तानी आतंकियों के हाथ होना बताया जा रहा है। इनमें आतंकी हरमीत सिंह पीएचडी का नाम भी शामिल है। करीब 40 साल का हरमीत ऐसा खालिस्तानी आतंकी है। जो राज्य में फिर आंतक फैलाने के लिए पूरी ताकत लगा रहा है।

 

सुरक्षा एजेंसियां यह बात मानती हैं कि आतंकी हरमिंदर सिंह मिंटू की मौत के बाद आईएसआई ने हरमीत को जिम्मेदारी सौंपी है कि वह राज्य में माहौल खराब करने के लिए अपने नेटवर्क का इस्तेमाल करे। हरमीत भी अमृतसर के  छेहर्टा का मूल निवासी है। खालिस्तान लहर से जुड़े युवा हरमीत के साथ हैं। सुरक्षा एजेंसियां इस दिशा में जांच कर रही हैं। 

 

मोबाइल लोकेशन से सुराग की तलाश

सुरक्षा एजेंसियों ने बम कांड से एक घंटे पहले और बमकांड के बाद घटना स्थल के आसपास मौजूद मोबाइलों की टॉवर लोकेशन और कॉल डिटेल की जांच शुरू कर दी है। बताया जा रहा है कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई, वहां सक्रिय आतंकी संगठन खालिस्तान समर्थकों को हर तरह की मदद उपलब्ध करा रहे हैं। इसके पीछे मकसद पंजाब में हिंसा फैलाने और कश्मीर को भारत से अलग करवाना है। 

 

वॉन्टेड आतंकी बैठे हैं पाकिस्तान में

खुफिया एजेंसियों के मुताबिक, इस समय पाक में सक्रिय आतंकी संगठन कश्मीर के आतंकियों और पंजाब में मौजूद खालिस्तान समर्थकों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। पंजाब में वॉन्टेड कई आतंकी जिनमें वधावा सिंह बब्बर, परमजीत सिंह पंजवाड़, हरमीत सिंह पीएचडी, लखबीर सिंह रोडे पाकिस्तान में पनाह लेकर बैठे थे। इन्हें आईएसआई पनाह दे रही है।

 

मूसा के एंगल पर चल रही जांच

इंटेलीजेंस ने कहा था कि अलकायदा के कश्मीरी आतंकी संगठन अंसार गजवत-उल-हिंद (एजीएच) के चीफ जाकिर रशीद भट्ट उर्फ मूसा के अमृतसर आने का इनपुट मिला है। ऐसे में मूसा के एंगल पर भी जांच चल रही है। निरंकारी भवन पर हुए हमले की ही तरह यहां 14 सितंबर को थाना मकसूदां पर भी चार हैंड ग्रेनेड फेंके गए थे। पुलिस ने इस मामले में शाहिद कय्यूम और फाजिल बशीर को गिरफ्तार किया था।

 

ग्रेनेड फेंकने में माहिर नहीं थे हमलावर

विशेषज्ञों के अनुसार, निरंकारी सत्संग भवन में हमलावरों ने घुसकर जिस तरह ग्रेनेड फेंका, उससे यह स्पष्ट है कि वे इस काम में माहिर नहीं थे। हमलावर ने ग्रेनेड 30-32 मीटर की दूरी से स्टेज की तरफ फेंका और वह जमीन पर गिरने के बाद फटा। इसके कारण आसपास के कुछ फीट की दूरी तक नुकसान हुआ। विशेषज्ञों के अनुसार, ग्रेनेड फेंकने के लिए खास ट्रेनिंग की जरूरत होती है। इसमें बताया जाता है कि 35 से 40 मीटर की दूरी से फेंकें। ग्रेनेड की रफ्तार इतनी रखी जाती है कि वह आठ से 11 सेकेंड में लक्ष्य तक पहुंच जाए, ताकि फटने के बाद उसके छर्रे 20 से 25 मीटर एरिया में असर दिखाएं।

 

चोरी हुईं मोटरसाइकिलों की डिटेल मांगी

चश्मदीदों के मुताबिक हमलावार काली पल्सर बाइक पर आए थे। पुलिस मान कर चल रही है कि यह बाइक चोरी की थी। ऐसे में हाल ही में चोरी हुई बाइक की डिटेल हर थाने से मांगी गई है। एसपी हरपाल सिंह ने बताया कि इलाके के सीसीटीवी कैमरे भी खंगाले जा रहे हैं। 

 

कई दिनों से सक्रिय है स्लीपर सेल

इंटेलीजेंस विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक, पंजाब खासकर प्रदेश के बॉर्डर से लगते जिलों में आतंकियों ने पिछले कुछ वक्त से अपने स्लीपर सेल्स एक्टिव किए हैं। सूत्रों के अनुसार, रिपोर्ट में कहा गया है कि ये स्लीपर सेल्स इलाके में कुछ और हमले करने की तैयारी में हैं। आर्मी चीफ विपिन रावत भी कह चुके हैं कि पंजाब में आतंकी गतिविधियां काफी बढ़ रही है।

 

आतंकी जाकिर मूसा पर शक की वजह

 

  • 14 सितंबर : मकसूदां थाने पर चार गेनेड फेंके गए। जांच में पता चला हमला कश्मीर में सक्रिय आतंकी संगठन गजबत उल हिंद के चीफ जाकिर मूसा ने करवाया था। 
  • 10 अक्टूबर : जालंधर के कॉलेज में कश्मीरी छात्रों से एके-56 राइफल और विस्फोटक बरामद हुआ। इनका संबंध भी मूसा से निकला।
  • 16 अक्टूबर : यूपी के शामली में एनकाउंटर के बाद हरियाणा और उत्तरप्रदेश के तीन युवक पकड़े गए। इनके पास पुलिस पर फायरिंग कर लूटी गई राइफल मिली। इससे पंजाब में 7 अक्टूबर को बादल की पटियाला रैली में उन्हें निशाना बनाना था।  
  • 1 नवंबर : पटियाला में खालिस्तान गदर फोर्स का आतंकी शबनमबीर पकड़ा गया। इसका टारगेट बस स्टैंड में भीड़ भरे इलाके में ब्लास्ट करना था। 
  • 14 नवंबर : चार संदिग्धों ने माधोपुर में जम्मू से किराए पर लाई इनोवा हथियारों के बल पर लूट ली। 
  • 15 नवंबर : दिल्ली हैडक्वाटर से खुफिया एजेंसी ने काउंटर इंटेलीजेंस पंजाब को सात आतंकियों के फोटो और इनपुट जारी किया कि ये जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी हैं, जो फिरोजपुर बाॅर्डर से पंजाब में दाखिल होकर दिल्ली पहुंचने की कोशिश करेंगे।
  • 16 नवंबर : अलर्ट मिला कि कश्मीर के आतंकी जाकिर मूसा की मूवमेंट अमृतसर एरिया में देखी गई है। जानकारी पुख्ता थी और गुरदासपुर एरिया में उसके पोस्टर भी लगे।
  • 18 नवंबर : मूसा की मूवमेंट के दो दिन बाद ही अमृतसर के अजनाला-राजासांसी रोड पर निरंकारी डेरे में दो लोगों ने घुसकर ग्रेनेड अटैक किया।