छत्तीसगढ़ / 72 सीटों पर वोटिंग शुरू; 9 मंत्री और कांग्रेस से सीएम पद के 3 दावेदारों की प्रतिष्ठा दांव पर

छत्तीसगढ़ / 72 सीटों पर वोटिंग शुरू; 9 मंत्री और कांग्रेस से सीएम पद के 3 दावेदारों की प्रतिष्ठा दांव पर

  • दूसरे चरण की 72 सीटों में से 46 सामान्य, जबकि 9 एससी और 17 एसटी के लिए आरक्षित
  • पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी मरवाही से और उनकी पत्नी रेणु जोगी कोटा से मैदान में
  • भाजपा और कांग्रेस प्रत्याशियों के अलावा बसपा के 27 और जनता कांग्रेस के 45 प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे

रायपुर.   छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण में 72 सीटों के लिए मंगलवार को वोटिंग शुरू हो गई है। 1 करोड़ 53 लाख लाख मतदाता अगली सरकार चुनेंगे। कुल 1079 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। इनमें भाजपा के 9 मंत्री और मुख्यमंत्री कैंडिडेट बनने के कांग्रेस के तीन दावेदारों की प्रतिष्ठा भी दांव पर लगी है। वहीं, इस बार अजीत जोगी और मायावती के साथ आने से दूसरे चरण में मुकाबला त्रिकोणीय बनने के आसार हैं। यह गठबंधन इस बार 20 से ज्यादा सीटों पर असर डाल सकता है। पिछले चुनाव में इन सीटों में से बसपा 6 सीटों पर तीसरे नंबर पर रही थी और 11 सीटें ऐसी थीं जहां पार्टी का वोट शेयर 10 से 33% तक रहा था।

HEADLINES 7 NEWS

 

दूसरे चरण में मतदान सुबह 8 बजे से शुरू हो कर शाम पांच बजे तक चलेगा। पहले चरण की 18 सीटों पर 12 नवंबर को 76.28 फीसदी वोटिंग हुई थी। जो पिछली बार इन सीटों पर हुए 75.93 प्रतिशत मतदान से करीब 0.35 फीसदी ज्यादा है। राज्य की 90 सीटों के परिणाम 11 दिसंबर को आएंगे।

 

9 मंत्री मैदान में : रमन सिंह सरकार के नौ मंत्रियों की प्रतिष्ठा दांव पर है। इनमें बृजमोहन अग्रवाल (रायपुर दक्षिण), राजेश मूणत (रायपुर पश्चिम), प्रेमप्रकाश पाण्डेय (भिलाई नगर), अजय चंद्राकर (कुरुद), पुन्नूलाल मोहले (मुंगेली), भैयालाल रजवाड़े (मनेंद्रगढ़), रामसेवक पैकरा (प्रतापपुर), अमर अग्रवाल (बिलासपुर) और दयालदास बघेल (बेमेतरा) शामिल हैं।

कांग्रेस से मुख्यमंत्री पद के तीन दावेदार : कांग्रेस से प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल (पाटन), टीएस सिंहदेव (अंबिकापुर) और चरणदास महंत (सक्ती)। तीनों मुख्यमंत्री पद के दावेदार हैं। पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने सक्ती में कहा था कि अगर यहां से जो प्रत्याशी (चरणदास) खड़ा है, वह जीतकर मुख्यमंत्री बन सकता है। 

 

11 सीट पर 20 से ज्यादा उम्मीदवार 
 

कुल उम्मीदवार : 1079
कुल वोटर : 1 करोड़ 53 लाख 85 हजार 983
पुरुष वोटर : 77 लाख 46 हजार 
महिला वोटर : 76 लाख 38 हजार 
थर्ड जेंडर : 877 
दूसरे चरण में 493 निर्दलीय प्रत्याशी मैदान में हैं। रायपुर दक्षिण से सबसे ज्यादा 46 उम्मीदवार अपना भाग्य अजमा रहे हैं, तो सबसे कम 6 प्रत्याशी बिन्द्रानवागढ़ सीट पर खड़े हैं। 11 पर  20 या उससे ज्यादा प्रत्याशी चुनाव में हिस्सा ले रहे हैं। 18 से 19 साल के 3.50 लाख युवा पहली बार अपने मतदान का इस्तेमाल करेंगे।

 

2013 में भाजपा को मिली थीं 43 सीटें

72 में से करीब 20 पर बसपा-जोगी गठबंधन का आधार

  • दूसरे चरण की 72 सीटों में से 46 सामान्य के लिए, जबकि 9 एससी और 17 एसटी के लिए आरक्षित हैं। इसका फायदा बसपा और जोगी कांग्रेस को मिल सकता है। 
  • बसपा का दूसरे चरण की 20 से ज्यादा सीटों पर 2 फीसदी से लेकर 33 फीसदी तक जनाधार है। इनमें से 11 सीटें बिलासपुर संभाग की हैं। बिलासपुर संभाग में बसपा के प्रभाव वाली सीटों में चंद्रपुर, जैजैपुर, पामगढ़, तखतपुर, जांजगीर, सारंगढ़, अकलतरा, सक्ती, बेलतरा, मस्तूरी और मुंगेली शामिल हैं। इसके अलावा इस संभाग में जनता कांग्रेस के प्रभाव वाली सीटों में मरवाही, कोटा, लोरमी, मुंगेली, तखतपुर, बिल्हा, मस्तूरी और अकलतरा शामिल हैं।
सीटें  बसपा का वोट शेयर 
  2013 2008 2003
पामगढ़     29.32% 39.28% 26.4%
जैजैपुर*  32.75% 29.06% – 
जांजगीर-चांपा* 20.59% 16.63%  12.28%
बिलाईगढ़*  20.23% 24.06%     – 
सक्ती 10.39% 14.34 % 8.06%  
बलोदा बाजार 10.58% 11.91% 17.54%    
सारंगढ़ 12.21% 18.12 % 33.12%
अकलतरा   11.20 %   33.11% 18.66%
तखतपुर  20.43% 16.60% 5.62%     
चंद्रपुर  29.69%   20.35%    18.21%  
कसडोल 15.22% 11.72% 14.9%    
HEADLINES 7 NEWS

इन सीटों पर रहेगी नजर 

  • अंबिकापुर: टीएस सिंहदेव (कांग्रेस) vs अनुराग सिंहदेव। यह सीट सामान्य है, लेकिन आदिवासियों और ईसाई वोटरों का दबदबा है। टीएस सबसे अमीर उम्मीदवार हैं। इनकी संपत्ति 500 करोड़ से ज्यादा है। 
  • कोटा : विभोर सिंह (कांग्रेस) vs काशी साहू (भाजपा) vs रेणु अजीत जोगी (जकांछ)। इस सीट पर रेणु कांग्रेस की टिकट पर पिछले तीन चुनाव से जीतती आ रही हैं। 
  • मरवाही : अजीत जोगी (जकांछ) vs अर्चना सिंह (भाजपा) vs गुलाब सिंह। इस सीट से पांच साल के बाद पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी चुनाव लड़ रहे हैं। पिछली बार उन्होंने बेटे अमित को चुनाव लड़ाया था। जोगी परिवार की यह परंपरागत सीट है। 
  • पाटन : भूपेश बघेल (कांग्रेस) vs मोतीलाल साहू (भाजपा)। इस सीट पर कुर्मी, साहू और सतनामी वोटर निर्णायक हैं। बघेल प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष हैं।
  • रायपुर दक्षिण : बृजमोहन अग्रवाल (भाजपा) vs कन्हैया अग्रवाल (कांग्रेस)। बृजमोहन छह बार से विधायक हैं। कांग्रेस ने पहली कन्हैया अग्रवाल को इस सीट से मौका दिया है।
  • सक्ती : चरणदास महंत (कांग्रेस) vs मेधाराम साहू (भाजपा)। चरणदास महंत कांग्रेस के मुख्यमंत्री पद के दावेदारों में शामिल हैं। 

 

मोदी से तीन गुनी ज्यादा सभाएं की राहुल ने 

भाजपा : भाजपा ने 6 चॉपर के जरिए करीब 350 सभाएं, तीन रोड शो कराए। दूसरे चरण में मोदी ने चार सभाएं कीं। अध्यक्ष अमित शाह ने 17 सभाओं के साथ तीन रोड-शो, गृहमंत्री राजनाथ सिंह की 14, योगी आदित्यनाथ की 24, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की 20, रघुवर दास ने 7, मनोज तिवारी की 7 सभाएं हुईं। 

कांग्रेस : राहुल ने तीन दिनों में 15 से ज्यादा सभाएं कीं। वे एक रात छत्तीसगढ़ में रुके भी। इस दौरान उन्होंने 52 विधानसभा सीटों को प्रभावित करने की कोशिश की। कांग्रेस के स्टार प्रचारकों के लिए लगभग 300 उड़ानें भरी गईं।

गठबंधन : अजीत जोगी और मायावती ने गठबंधन के तहत करीब ढाई सौ रैलियां कीं। मायावती और जोगी ने संयुक्त रूप से करीब 6 चुनावी जनसभाएं की हैं, जबकि जोगी ने अकेली 89 रैलियां कींं । 

HEADLINES 7 NEWS