मध्यप्रदेश / पांच जिलों में महिला वोट की ताकत बढ़ी, छिंदवाड़ा में सबसे ज्यादा 81% महिलाओं ने वोट डाला

  • प्रदेश में 8 जिले ऐसे भी हैं जहां महिलाओं ने 75% से ज्यादा मतदान किया
  • 1998 में महिला-पुरुष में वोटिंग का अंतर 12% था, जो 2013 में घटकर 4% रह गया

भोपाल . 2013 में सिर्फ तीन जिलों रीवा, सीधी और बालाघाट में ही महिलाओं ने दबदबा दिखाया था, लेकिन इस बार इनकी संख्या बढ़कर पांच हो गई। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के गृह जिले छिंदवाड़ा में ही पुरुषों और महिलाओं का वोटिंग प्रतिशत 81-81 प्रतिशत रहा। होशंगाबाद और सीधी में महिलाओं ने बराबरी से वोट डाले।

महिलाओं की इस जागरुकता के नए समीकरण निकाले जा रहे हैं। आठ जिले ऐसे भी हैं जहां महिलाओं ने 75% से ज्यादा मतदान किया। जिन 5 जिलों में महिलाएं पुरुषों के लगभग बराबर रहीं, उसमें दतिया के साथ विदिशा जिला भी शामिल है। यहां सांसद सुषमा स्वराज हैं, पर प्रधानमंंत्री नरेंद्र मोदी की  रैली भी वोट प्रतिशत बढ़ने के पीछे अहम मानी जा रही है।

हर चुनाव में महिलाओं का वोट प्रतिशत पुरुषों से बढ़ा:

  • 1998 में महिला-पुरुष में वोटिंग का अंतर 12% था, जो 2013 में घटकर 4% रह गया है। 1962 में यह अंतर 30% से ज्यादा था।
  • 2013 में 25 सीटों पर महिलाओं ने पुरुषों से ज्यादा वोट डाला। ये एक रिकॉर्ड है।
  • इन 25 सीटों में भाजपा की जीत का स्ट्राइक रेट 56% रहा। 6 यानी 24% सीटों पर महिला उम्मीदवार विजयी रहीं।
  • राज्य में महिला प्रत्याशी का सक्सेस रेट 15% है, जबकि पुरुष का सक्सेस रेट 8%। 1998 में  सक्सेस रेट 12% था।

यहां महिलाओं का दबदबा रहा

जिला पुरुष  महिलाएं
दतिया 71 % 72%
रीवा 66% 67%
सीधी 68% 68%
छिंदवाड़ा 81% 81%
विदिशा 74% 74%