अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संघ के रांची टीम ने थाने में कराया सुलह

रांची : अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संघ के झारखंड इकाई को रांची जिला के बेड़ो प्रखंड अंतर्गत ग्राम बोदा निवासी 18 वर्षीय निकेत ओहदार के द्वारा एक आवेदन प्राप्त हुआ था जिसमें उसे  बेड़ो प्रखंड अंतर्गत जमुनी पंडरा के निवासी श्री जलेश्वर गोप के द्वारा डराने धमकाने एवं जबरन उनकी 16 वर्षीय बेटी रिता कुमारी (बदला हुआ नाम) से शादी कराने का जिक्र था
इस आधार पर संघ ने दिनांक 16.12.18 को बेड़ो थाना के थाना प्रभारी जितेंद्र कुमार रमन को इस मामले की निष्पक्ष जांच करने का लिखित रूप में अनुरोध किया था, थाना प्रभारी ने इस मामले की निजी रूप से जांच कर  दिनांक 20.12.18 को दोनों पक्षों को बेड़ो थाना पर अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार संघ के पदाधिकारियों , ग्राम जमुनी पंडरा एवं प्रखंड के गणमान्य व्यक्तियों के बीच इस मामले को रखा एवं अत्यंत वाद-विवाद एवं गहन चर्चा के उपरांत की यह तय हुआ कि चूँकि लड़का और लड़की दोनों नाबालिग है और नाबालिक होने के कारण इन दोनों की शादी नहीं हो सकती है ,अत्यंत जद्दोजहद के पश्चात दोनो पक्ष बॉन्ड लिखने को तैयार हुए कि उनके बालिग होने पर ही उनकी शादी होगी, इस प्रकार एक बहुत ही उलझे हुए मामले को संघ के द्वारा सुलझा दिया गया और उस लड़की को उसके मां-बाप के पास भेज दिया गया, इसको केस को सुलझाने में बेड़ो प्रखंड अंतर्गत आनेवाले गणमान्य व्यक्तियो , ज़िला परिषद सदस्य एवं संघ के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम कुमार , प्रदेश संगठन मंत्री श्री पुुरेंद्र पाल देवघरिया , संरक्षक श्री भुवनेश्वर राय एवं थाना प्रभारी श्री जितेंद्र कुमार रमन की मुख्य भूमिका रही।
हैड्लाइन्स 7 न्यूज़
हर खबर पर पैनी नजर